Thursday , 17 January 2019
Loading...
Breaking News

चाइनीज हैकर्स ने हिंदुस्तान की इस कंपनी को लगाया 130 करोड़ का चूना

अभी तक आपने रूस के हैकर्स के बारे में सबसे ज्यादा सुना होगा, लेकिन एक चाइनीज हैकर्स ने हिंदुस्तान में मौजूद एक कंपनी को 130 करोड़ से अभी अधिक का चूना लगाया है, हालांकि बताया जा रहा है कि यह हैकिंग किसी एक ने बल्कि चाइना के हैकर्स के एक ग्रुप ने की है.
रिपोर्ट के मुताबिक चाइना के हैकर्स के एक ग्रुप ने इटली की कंपनी टेक्निमोंट SpA की इंडियन यूनिट से 1.86 करोड़ डॉलर यानि करीब 130 करोड़ रुपये उड़ा लिए हैं. ऐसे में यह हिंदुस्तान में अबतक का सबसे बड़ा हमला है.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन हैकर्स ने कंपनी के लोकल मैनेजर्स को नयी कंपनी खरीदने के लिए राजी कर लिया  इसके लिए फंड भी ले लिया. इसके बाद हैकर्स ने इटली के टेक्निमोंट की इंडियन यूनिट टेक्निमोंट प्राइवेट लिमिटेड को एक ई-मेल अकाउंट से मेल भेजी  इस मेल के साथ ही खेल प्रारम्भ हो गया.
दरअसल जिस अकाउंट से हैकर्स ने मेल किया वह ग्रुप के सीईओ पिएरोबर्टो फोलगिएरो के ईमेल अकाउंट के जैसा लग रहा था. इसके बाद हैकर्स बाद चाइना में नयी कंपनी की अधिग्रहण की व्यक्तिगत जानकारी के लिए एक कॉन्फ्रेंस कॉल की जिसमें ग्रुप के सीईओ, स्विट्जरलैंड के टॉप लॉयर  कंपनी के अन्य सीनियर एग्जिक्यूटिव्स समेत कई लोग शामिल हुए.
इसके बाद हैकर्स ने कंपनी के हिंदुस्तान में स्थिति टेक्निमोंट SpA में हेड को राजी कर लिया कि रेगुलेटरी समस्या के कारण इटली से अधिग्रहण के पैसे ट्रांसफर नहीं किए जा सकते.इसके बाद कंपनी के इंडियन हेड ने एक हफ्ते के अंदर तीन बार में 56 लाख डॉलर, 94 लाख डॉलर  36 लाख डॉलर टांसफकर किए.
ये पैसे हिंदुस्तान से हांगकांग के कई बैंकों में भेजे गए. गौर करने वाली बात है कि पैसे बहुत जल्दी ही अकाउंट से निकाल लिए गए. इसके बाद हैकर्स ने  पैसों की मांग तो पोल खोल गई.जिस समय यह पोल खुली उस दौरान टेक्निमोंट SpA के चेयरमैन फ्रैंको गिरिनगेली हिंदुस्तान के दौरे पर थे.
बता दें कि टेक्निमोंट SpA इटली के बड़े बिजनेस ग्रुप मेर टेक्निमोंट का भाग है  यह कंपनी केमिक्लस, इंजीनियरिंग  एनर्जी जैसे एरिया में कारोबार करती है, हालांकि कंपनी ने इस धोखाधड़ी को सायबर अपराध मानने से मना कर दिया है. ठगी के बाद कंपनी ने इंडियन यूनिट के चीफ, अकाउंट्स  फाइनेंस हेड को निकाल दिया है. फिल्हाल मुंबई की साइबर पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.
Loading...
loading...